Saffron cream
Saffron cream

Saffron cream

Regular price Rs. 350.00 Sale price Rs. 275.00

#केसर के रेशे- रेशे में छुपा है सेहत और खूबसूरती का खज़ाना, जानिए इसके सभी फायदे और नुकसा

#केसर दुनिया के सबसे महंगे मसालों में से एक है। इसे #सैफ्रॉन (#Saffron) या फिर #जाफरान के नाम से भी जाना जाता है। लाल और सुनहरे रंग के इस मसाले की खेती स्पेन, इटली, ग्रीस, तुर्किस्तान, ईरान, चीन और भारत में होती है। भारत में केवल जम्मू (किस्तवार) और कश्मीर (पामपुर) के सीमित क्षेत्रों में ही इसकी पैदावार होती है। #केसरयहां के लोगों के लिए वरदान है, क्योंकि इसके फूलों से निकाली जाने वाली #केसरकी कीमत बाज़ार में तीन से साढ़े तीन लाख रुपए प्रति किलो है। यहां की #केसर हल्की, पतली, लाल रंग वाली, कमल की तरह सुन्दर और बेहद खुशबूदार होती है।

#केसर न सिर्फ स्वास्थ्य बल्कि खूबसूरती के लिए भी वरदान है। इसे खाने में रंग की तरह भी इस्तेमाल कर सकते हैं। #केसरके भारत में कई नाम हैं। जैसे- हिंदी में #केसर, बंगाली में #जाफरान, तमिल में #, तमिल में #पुब्बा और अरबी में #जियाफ्रान। इसमें विटामिन ए, फोलिक एसिड, तांबा, पोटेशियम, कैल्शियम, आयरन, ज़िंक, मैग्नीशियम आदि कई पोषक तत्व पाये जाते हैं। इसके अलावा #केसर में कई औषधीय गुण भी पाये जाते हैं। इसके गुणों के कारण ही इसे सभी मसालों में सर्वोत्तम माना जाता है।

 

#केसर के फायदे -

याददाश्त के लिए -

#केसर याददाश्त दुरुस्त रखने के लिए काफी असरकारक होती है, क्योंकि ये हमारे मस्तिष्क यानि दिमाग को बल देती है। ये न सिर्फ हमारे सीखने और याद करने की क्षमता को बढ़ाती है बल्कि बढ़ती उम्र के साथ होने वाले अल्ज़ाइमर और स्मरण शक्ति की अन्य बीमारियों से भी दूर रखती है। याददाश्त बढ़ाने के लिए रोज़ाना #केसर वाला दूध या फिर चाय जिसे कश्मीरी कहवा भी कहा जाता है, पी सकते हैं। #केसर में मौजूद क्रोसिन और एथनॉलिक मूड को काफी हद तक ठीक रखने में मदद होते हैं और यह #शीज़ोफ्रेनिया से ग्रसित मरीजों के इलाज में भी काफी फायदेमंद साबित होती है।

पाचन के लिए -

#केसर हमारी पाचन शक्ति को बढ़ाने में भी मदद करती है। ये पेट में होने वाली गैस और एसिडिटी के उपचार में भी फायदा पहुंचाती है। यह पेट में दर्द और अल्सर आदि बीमारियों को दूर कर हमारे शरीर को रोग मुक्त बनाती है। पाचन तंत्र को मजबूत करने के लिए रोज़ सुबह एक कप केसर की चाय पिएं।

अस्थमा में फायदेमंद -

पुराने समय से #केसर का उपयोग अस्थमा के इलाज में भी किया जाता है। ये अस्थमा के रोगी को स्वस्थ रूप से सांस लेने में मदद करती है। बदलते मौसम में अस्थमा की बीमारी से पीड़ित लोगों को सबसे ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता है। ऐसे में #केसर वाला दूध पीने से अस्थमा की समस्या धीरे- धीरे कम होने लगती है। ये फेफड़ों में सूजन और जलन को कम करती है। साथ ही हवा को फेफड़ों में अच्छे से पास होने में मदद करती है। आयुर्वेद में भी अस्थमा के इलाज में #केसर का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है। अस्थमा अटैक होने की आशंका को दूर करने के लिए #केसरकी चाय पिएं।  हालांकि अस्थमा के इलाज में इसके प्रभाव सीमित हैं इसलिए डॉक्टर से सलाह ज़रूर लें।

नींद  आने की शिकायत को दूर करे -

आजकल की लाइफस्टाइल में नींद न आने की समस्या लोगों में बढ़ती जा रही है। रात- रात भर स्मार्टफोन का  इस्तेमाल और काम का तनाव नींद में सबसे बड़ी बाधा बनते हैं। ज्यादातर युवा तो सुबह के 4-5 बजे तक मोबाइल में या तो गेम्स खेलते रहते हैं या फिर वीडियोज़ देखते रहते हैं। ये सभी नींद न आने का सबसे बड़ा करण बनते हैं। केसर अनिद्रा यानि नींद न आने की शिकायत को भी दूर करती है। दरअसल, #केसर इंसोम्निया और डिप्रेशन जैसी समस्याओं को दूर करने में फायदेमंद साबित होती है। #केसर में पाया जाने वाला क्रोसिन आंखों की नॉन-रैपिड गति को कम करता है और अच्छी नींद लाने में मदद करता है। इससे अनिद्रा से जूझ रहे लोगों को काफी फायदा होता है और नींद न आने की वजह से होने वाली कई बीमारियां भी ठीक हो जाती हैं। इसके लिए रोज़ रात को सोने से पहले एक ग्लास गर्म दूध में चुटकी भर #केसर मिलाकर 5 मिनट के लिए रख दें। उसके बाद दूध पी लें। आप चाहें तो इसमें मिठास लाने के लिए शहद भी डाल सकते हैं।

#कैंसर के लिए 

#केसर में #कैंसर जैसी घातक बीमारी के बचाव के गुण भी पाए जाते हैं। एक अध्ययन के मुताबिक #केसर #कैंसर के खतरे को रोकने में काफी सहायक है। #केसर में मौजूद क्रोसिन #कैंसर सेल को बढ़ने से रोकता है। इसके अलावा यह ब्रेस्ट कैंसर, स्किन कैंसर और प्रोस्टेट कैंसर से भी हमारी सुरक्षा करती है। साथ ही ये ल्यूकेमिया यानि ब्लड कैंसर के खतरे को भी कम करती है। इसका नियमित सेवन ट्यूमर के विकास को रोकने में मददगार साबित होती है।

त्वचा की रौनक बढ़ाने के लिए -

#केसर सिर्फ सेहत के लिए ही नहीं बल्कि त्वचा में रौनक के लाने के लिए भी फायदेमंद होती है। #केसर से बने फेस पैक त्‍वचा का सांवलापन दूर कर उसमें निखार लाते हैं। सर्दियों के मौसम में खासतौर पर त्वचा का ध्यान रखना ज़रूरी हो जाता है। इसके लिए दूध में #केसर मिलाकर चेहरे पर लगाएं। ऐसा करने पर त्वचा में नमी बरकरार रहती है और रंग भी निखरता है। #केसर का फेस पैक बनाने के लिए एक कटोरी में दूध और थोड़ा सा #केसर  डालकर रख दें। फिर थोड़ी देर बाद कॉटन की मदद से इसे चेहरे पर लगाएं। पैक सूख जाने के बाद इसे पानी से धो लें। बेहतर परिणामों के लिए इस फेस पैक को रोज़ाना या फिर कम से कम हफ्ते में दो बार लगा सकती हैं।

इसके अलावा त्वचा पर होने वाले दाग- धब्बे भी एक आम समस्या है। बेदाग चेहरा पाने के लिए केसर और पपीते से पैक बना सकते हैं। #केसर में मौजूद प्राकृतिक एंटी-बैक्टीरियल और एक्सफोलिएटिंग गुण प्रदूषण से होने वाले बैक्टीरिया को दूर कर त्वचा को बेदाग व चमकदार बनाते हैं। इसके अलावा पपीते में विटामिन सी और एंटीऑक्‍सीडेंट के गुण पाए जाते हैं जो त्‍वचा के लिये बहुत अच्‍छे होते हैं। इस पैक को बनाने के लिए पका पपीता लेकर उसे मिक्सी में पीस लें। फिर उसमें दूध, शहद और #केसर मिला लें। इसको चेहरे पर 10-15 मिनट के लिये लगाकर ठंडे पानी से धो लें।

मुंहासे दूर करने के लिए 

ऑयली त्वचा वालों की सबसे बड़ी समस्या होती है, उनके चेहरे पर निकलने वाले मुंहासे। #केसर आपकी इस समस्या से निजात दिलाने में भी कारगर है। केसर और चंदन पाउडर से बने फेस पैक ऑयली स्किन वालों के लिए काफी फायदेमंद होते हैं।। इसके अलावा ये आपकी स्किन पर होने वाले सनटैन को दूर करने का भी काम करती है। इस पैक को बनाने के लिए आप एक कटोरी में थोड़ा सा दूध लेकर उसमें केसर के कुछ रेशे और आधा चम्‍मच चंदर पाउडर मिला लें। आप चाहें तो इसमें शहद भी मिला सकते हैं। फिर इस पैक को अपने चेहरे पर लगाकर 5 मिनट के लिए छोड़ दें। फिर चेहरे को धो लें।

झुर्रियों को कम करने के लिए -

#केसर में मौजूद एंटी- ऑक्सीडेंट गुण आपकी स्किन पर उम्र से पहले आने वाली झुर्रियों को रोकते हैं। यदि शहद और बादाम में #केसर  मिलाकर लगाई जाए तो ये काफी हद तक एजिंग के निशानों को दूर कर सकती है। इसका पैक बनाने के लिए सबसे पहले रात भर बादाम को पानी में भिगोकर रख लीलिए। सुबह इन भीगे हुए बादामों का पेस्ट बना लीजिए। अब इस पेस्ट में शहद, नींबू का रस और गुनगुने पानी में भीगी हुई थोड़ी से #केसर मिलाकर पैक तैयार कर लीजिए। इस पैक को चेहरे और गर्दन पर लगाएं व सूखने के बाद इसे पानी से धो लें। इस पैक को लगाने से कुछ दिन में ही झुर्रियों की समस्‍या कम होने लगेगी।

कितनी मात्रा में करें #केसर का सेवन 

#केसर की तासीर काफी गर्म होती है, इसलिए इसका ज्यादा सेवन सेहत के लिए हानिकारक होता है। यही वजह है कि किसी भी समस्या के लिए #केसर  का सेवन करने से पहले एक बार डाॅक्टर से सलाह ज़रूर लें। अगर आप पीएमएस के लिए #केसर का सेवन करती हैं तो 5 ग्राम#केसर  दिन में दो बार लें। वहीं अगर आप डिप्रेशन दूर करना चाहते हैं, तो इसके लिए तीन ग्राम #केसर  की खुराक को दिन में दो बार दूध के साथ लें। ध्यान रहे अगर आप 20 ग्राम से ज्यादा #केसर का सेवन करते हैं तो यह आपके लिए खतरनाक हो सकता है। इससे बचने के लिए बेहतर है कि आप डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही इसका प्रयोग करें।

स्वाद भी बनाए लाजवाब -

वैसे तो इस बेशकीमती मसाले को हर आहार में शामिल करना काफी महंगा पड़ सकता है, लेकिन कुछ व्यंजनों और पेय पदार्थों का स्वाद #केसर  के बिना अधूरा सा लगता है। जैसे- खीर, लस्सी, बिरयानी, फिरनी आदि। थोड़ी सी केसर इन सभी के स्वाद में ढेर सारा इज़ाफा कर देती है। इसके अलावा दूध में केसर मिलाकर पीना तो स्वास्थ के लिए फायदेमंद होता ही है। मगर जैसा कि हम पहले भी बता चुके हैं कि लंबे समय तक #केसर  का सेवन सेहत के लिए हानिकारक होता है। मगर कभी- कभी इसका स्वाद लेने में कोई बुराई नहीं हैं।  

#केसर के नुकसान -

हर चीज़ के फायदे और नुकसान होते हैं, #केसर  के भी हैं। गुणों की खान #केसर  स्वास्थ्य के लिए अगर फायदेमंद है, तो नुकसानदायक भी है। आइए जानते हैं, #केसर  के नुकसान...

 

त्वचा का पीला पड़ना

अगर आप दिन में ज्यादा #केसर का सेवन करते हैं, तो ये आपकी सेहत के साथ त्वचा के लिए भी नुकसानदायक हो सकता है। इस वजह से आपकी त्वचा और आंखें पीली पड़ जाती हैं और आपको पीलिया एवं फूड पाॅइज़निंग जैसी बीमारियां हो सकती हैं। इसके अलावा जिन लोगों के केसर से एलर्जी है, वो किसी भी रूप में इसका सेवन न करें।