इत्र (खुशबू) -B

इत्र (खुशबू) -B

Regular price Rs. 1,200.00 Sale price Rs. 1,000.00

Each bottle contains 20 ml

जानिए #सुगन्ध/#खुशबू का प्रभाव और कैसे उठाएं इसके लाभ

 

हिन्दू धर्म में #सुगंध या #खुशबू का बहुत महत्व माना गया है। वह इसलिए कि सात्विक अन्न से शरीर पुष्ट होता है तो #सुगंध से सूक्ष्म शरीर। यह शरीर पंच कोष वाला है। जड़, प्राण, मन, विज्ञान और आनंद। #सुगंध से प्राण और मनोमय कोष पुष्ट होता है। इसलिए जिस व्यक्ति के जीवन में #सुगंध नहीं उसके जीवन में शांति भी नहीं। शांति नहीं तो सुख और समृद्धि भी नहीं। #सुगंध से आपका मस्तिष्क बदलता है, सोच बदलती और सोच से भविष्य बदल जाता है। #सुगंध आपके विचार की क्षमता पर असर डालती है। यह आपकी भावनाओं को बदलने की क्षमता रखती है। #सुगंध के चमत्कार से प्राचीनकाल के लोग परिचि‍त थे तभी तो वे घर और मंदिर आदि जगहों पर #सुगंध का विस्तार करते थे। यज्ञ करने से भी सुगंधित वातावरण निर्मित होता है। #सुगंध के सही प्रयोग से एकाग्रता बढ़ाई जा सकती है। #सुगंध से स्नायु तंत्र और डिप्रेशन जैसी बीमारियों को दूर किया जा सकता है। मनुष्य का मन चलता है शरीर के चक्रों से। इन चक्रों पर रंग, #सुगंध और शब्द (मंत्र) का गहरा असर होता है। यदि मन की अलग-अलग अवस्थाओं के हिसाब से #सुगंध का प्रयोग किया जाए तो तमाम मानसिक समस्याओं को दूर किया जा सकता है। ध्यान रहे कि परंपरागत #सुगंध को छोड़कर अन्य किसी रासायनिक तरीके से विकसित हुई #सुगंध आपकी सेहत और घर के वातावरण को नुकसान पहुंचा सकती है।

अपने को अच्छा महसूस करवाने के लिए लोग अक्सर #इत्र का प्रयोग करते हैं। #परफ्यूम के इस्तेमाल से आप हमेशा अच्छा महसूस करने के साथ ही एक फ्रेशनेस का एहसास भी करते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि इन #खुशबुओं के अनुसार तंत्र में वशीकरण को संभव माना गया है। #इत्र की #खुशबू परलौकिक शक्तियों ,देवी और देवताओं को भी आर्कषित कर सकता हैं। आइये जानते है #इत्र से जुड़े कुछ फायदे।

सफेद कपड़े पहनकर किसी भी देव-स्थल पर लाल गुलाब व चमेली का #इत्र चढ़ाने से प्रेम विवाह में आ रही बाधाएं दूर होंगी। अगर आपको अचानक से धन का नुकसान हो रहा है तो सात शुक्रवार को अपने पत्नी के माध्यम से सुहागिनों को लाल वस्तु उपहार दें। इसके साथ ही उपहार में #इत्र जरूर दें। इससे तुरंत लाभ होगा।

यदि आप अपने ऑफिस में लोगों पर प्रभाव डालना चाहते हैं तो मोगरा, रातरानी और चंदन का #इत्र प्रयोग करें। ऑफिस में आपसे सब खुश रहेंगे।

भूरे रंग के पर्श में किन्ही चार नोटों पर चंदन का #इत्र लगाकर रखने से आपका पर्श हमेशा पैसों से भरा रहेगा लेकिन ध्यान रहें कि इन नोटों को खर्च न करें।

अगर पति और पत्नी अपने बीच प्रेम के साथ ही घर में धन व समृद्धि को बढ़ाना चाहते है तो शुक्ल पक्ष की शुक्रवार को माता लक्ष्मी को श्रृंगार के सामान के साथ #इत्र भेट करें।

मंदिर में चंदन, कपूर, चंपा, गुलाब, केवड़ा, केसर और चमेंली को #इत्र भेंट करने या लगाने से देवी और देवता प्रसंन होते हैं।

अगर आपका जन्म बुधवार यश बुध नक्षत्र में हुआ है तो बुधवार को चमेली का तेल या चमेली का #इत्र को पीपल के पेड़ पर छिड़के। इससे इस नक्षत्र के लोगों को लाभ जरूर होगा।

शुक्र को जगाने के लिए आचरण की शुद्धि अत्यंत आवश्यक है। जातक या जातिका को #परफ्यूम या #इत्र का प्रयोग करना चाहिए। इसके अलावा जब भी समय मिले शुक्ल पक्ष के शुक्रवार को माता लक्ष्मी को #इत्र एवं श्रृंगार की वस्तुएं भेट करें। इस उपाय से पति पत्नी के बीच जहां प्रेम बढ़ेगा वहीं घर में धन एवं समृद्धि भी बरकरार रहेगी।

यदि आपका जन्म बुधवार या बुध नक्षत्र को हुआ है तो आप बुधवार के दिन चमेली का तेल या चमेली के #इत्र को पीपल के पेड़ पर छिड़के। इससे इस नक्षत्र के लोगों को निश्चित रूप से लाभ मिलेगा।

दीपावली पर महालक्ष्मीजी की पूजा के समय मां को एक #इत्र की शीशी चढ़ाएं। उसमें से एक फुलेल लेकर मां को अर्पित करें। फिर पूजा के पश्चात् उसी शीशी में से थोड़ा #इत्र स्वयं को लगा लें। इसके बाद रोजाना इसी #इत्र में से थोड़ा-सा लगा कर कार्य स्थल पर जाएं तो रोजगार में वृद्धि होने लगती है।

यदि आप चाहते हैं कि आपका पर्स हमेशा नोटो से भरा रहे तो आप अपने भूरे रंग के पर्स में दस रुपए के दो और 20 रुपए का दो नोट चंदन का #इत्र लगाकर रखें।

यदि आपको अचानक धन का नुकसान होता है, तो आप सात शुक्रवार को किन्हीं सात सुहागिनों को अपनी पत्नी के माध्यम से लाल वस्तु उपहार में दें और यदि उपहार में #इत्र भी हो तो इस प्रयोग तत्काल ही लाभ मिलता है।

यदि आप अपने ऑफिस के लोगों पर प्रभाव डालना चाहते हैं कि आप मोगरा, रातरानी या चंदन का इस्तेमाल करेंगे तो सभी आपसे खुश रहेंगे।

मंदिर में चंदन, कपूर, चंपा, गुलाब, केवड़ा, केसर और चमेली के #इत्र का इस्तेमाल करने से देवी और देवता आपसे प्रसन्न रहते हैं।

श्वेत वस्त्र धारण करके किसी भी देव-स्थल पर लाल गुलाब व चमेली का #इत्र अर्पित करें। प्रेम-विवाह में लाभ होगा।

राहु की हरकतों को शांत करने के लिए जल में चंदन का #इत्र डालकर उससे नहाएं। इससे राहु कुछ हद तक शुभ असर देने लगेगा। आपका बाथरूम और टॉयलेट एकदम साफ सुथरा है और उसका प्रभाव घर के अन्य किसी रूप में नहीं पड़ता है तो इससे भी राहु का अशुभ प्रभाव नहीं होगा।

1.यदि आप घर से किसी जरूरी काम के लिए बाहर जा रहे हो तब आप को थोड़ा सा # अपनी नाभि में लगाकर निकलना चाहिए इससे आप के जरूरी काम में कभी धन की कमी नहीं होगी। और जिन लोगों से आप मिलेंगे वो सब आप की और आकर्षित होंगे, क्योंकि #इत्र का छिड़काव शुक्र देव को अति प्रिय है। जिसके कारण आप को कोई कमी नहीं होगी।

2.यदि आप को ज्यादा गुस्सा आता है और आप बात-बात पर बहुत ज्यादा क्रोधित हो जाते हैं। तो आपको चन्दन अथवा मोगरे का #इत्र इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है। क्योंकि चन्दन व मोगरा अत्यधिक ठंडा #इत्र माना जाता है। जिसके कारण आप के शरीर की सभी धमनी शांत रहती है। अगर आपको माइग्रेन या सर दर्द से सम्बन्धित परेशानी रहती है तो यह उपाय उसमें भी अत्यंत लाभकारी है।

  1. यदि आप के साथ हमेशा बुरा हो रहा है। साथ ही साथ आप जिस कार्य को भी करते हैं वह कार्य किसी भी हालत में पूर्ण नहीं होता तो आप चन्दन का #इत्र पानी में डाल कर स्नान करें और बाद में थोडा #इत्र नाभि में लगाएं आप के सभी कार्य शुभ होने लगेंगे। क्योंकि अगर आप का कोई कार्य पूर्ण नहीं होता तो आप पर राहू की क्रुर द्रष्टि रहती है। राहु #इत्र खुशबू से शांत हो जाते हैं।

4.यदि पति पत्नी में सम्बन्ध अच्छे नहीं है। तो आप शुक्रवार वाले दिन साबुदाने की खीर बनाकर साथ बैठ कर खाएं और #इत्र का दान किसी मन्दिर में कर दें। इससे जल्द ही आप के सम्बन्ध अच्छे होने लगेंगे। परन्तु हर रोज़ नाभि पर #इत्र लगाना न भूलें।

  1. यदि आप के घर में हर रोज परिवारिक मतभेद चल रहे हैं और आप इन परेशानियों से थक चुके हैं तो हर रोज सुबह स्नान करके अपनी नाभि पर चन्दन का #इत्र लगाकर पुरे घर में चंदन या मोगरे के #इत्र का छिड़काव करें। आप को कुछ ही दिन में फर्क नज़र आने लगेगा और आप के परिवार में हो रही परेशानी शीघ्र ही दूर होगी।

यदि आप #सुगंध के रूप में धूपबत्ती या अगरबत्ती जला रहे हैं या घर में कहीं पर #इत्र का उपयोग कर रहे हैं तो ध्यान रहे कि #सुगंध प्राकृतिक और हल्की होना चाहिए। बहुत तीखी #सुगंध का विपरित असर हो सकता है। भीनी-भीन #सुगंध ही असरकारक होती है। और यदि शरीर पर #सुगंध का उपयोग कर रहे हैं तो कलाइयों पर, गर्दन के पीछे और नाभि पर लगाकर इसका उपयोग करें। अगर आप चाहें तो जल में भी #सुगंध डालकर इससे स्नान कर सकते हैं। विद्यार्थियों, अविवाहितों को केवल चंदन का इस्तेमाल करना चाहिए। काम करने या पूजा करने के पहले ही #सुगंध का उपयोग करना चाहिए। कार्यस्थल या पूजा स्थल पर चंदन और गुग्गल की #सुगंध का ही उपयोग करना चाहिए इससे कार्य और पूजा में मन लगा रहता है। ध्यान करते वक्त भी इसी #सुगंध का प्रयोग करना चाहिए। मानसिक तनाव को दूर करने और अच्छी सेहत के लिए अपने बैडरूम में और नहाने के दौरान गुलाब, रातरानी और मोगरे की #सुगंध का उपयोग करना चाहिए। सोने के पहले अपनी नाभि पर चदन या गुलाब की #सुगंध लगाकर सो जाइये।


Also available in  1 liter pack  (for details call me)

Pure & Natural