भृंगराज चूर्ण (BRANGRAJ POWDER)
भृंगराज चूर्ण (BRANGRAJ POWDER)
भृंगराज चूर्ण (BRANGRAJ POWDER)

भृंगराज चूर्ण (BRANGRAJ POWDER)

Regular price Rs. 300.00 Sale price Rs. 125.00

#भृंगराज (#भांगरा)

घने मुलायम काले केशों के लिए प्रसिद्ध #भृंगराज के स्वयंजात शाक 1800 मीटर की ऊंचाई तक आर्द्रभूमि में जलाशयों के समीप बारह मास उगते हैं | सुश्रुत एवं चरक संहिता में कास एवं श्वास व्याधि में #भृंगराज_तेल का प्रयोग बताया गया है | इसके पत्तों को कृष्णाभ , हरितवर्णी रस निकलता है, जो शीघ्र ही काला पड़ जाता है | इसके पुष्प श्वेत वर्ण के होते हैं | इसके फल कृष्ण वर्ण के होते हैं | इसके बीज अनेक, छोटे तथा काले जीरे के समान होते हैं | इसका पुष्पकाल एवं फलकाल अगस्त से जनवरी तक होता है |
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
आज हम आपको #भृंगराज के आयुर्वेदिक गुणों से अवगत कराएंगे -

1 - #भृंगराज का रस और बकरी का दूध समान मात्रा में लेकर उसको गुनगुना करके नाक में टपकाने से और #भृंगराज  के रस में काली मिर्च का चूर्ण मिलाकर सिर पर लेप करने से आधासीसी के दर्द में लाभ होता है |

2 जिनके बाल टूटते हैं या दो मुंह के हो जाते हैं उन्हें सिर में #भृंगराज  के पत्तों के रस की मालिश करनी चाहिए | इससे कुछ ही दिनों में अच्छे काले बाल निकलते हैं |

3 - #भृंगराज के पत्तों को छाया में सुखाकर पीस लें | इसमें से 10 ग्राम चूर्ण लेकर उसमें शहद 3 ग्राम और गाय का घी 3 ग्राम मिलाकर नित्य सोते समय रात्रि में चालीस दिन सेवन करने से कमजोर दृष्टी आदि सब प्रकार के नेत्र रोगों में लाभ होता है |

4 - दो - दो चम्मच #भृंगराज स्वरस को दिन में 2-3 बार पिलाने से बुखार में लाभ होता है |

5 - दस ग्राम #भृंगराज   के पत्तों में 3 ग्राम काला नमक मिलाकर पीसकर छान लें | इसका दिन में 3-4 बार सेवन करने से पुराना पेट दर्द भी ठीक हो जाता है |

6 - #भृंगराज के पत्ते 50 ग्राम और काली मिर्च 5 ग्राम दोनों को खूब महीन पीसकर छोटे बेर जैसी गोलियां बनाकर छाया में सुखा लें | सुबह शाम 1 या 2 गोली पानी के साथ सेवन करने से बादी बवासीर में शीघ्र लाभ होता है |

7 दो चम्मच #भृंगराज पत्र स्वरस में 1 चम्मच शहद मिलाकर दिन में दो बार सेवन करने से उच्च रक्तचाप कुछ ही दिनों में सामान्य हो जाता है |

8 - यदि बच्चा मिट्टी खाना किसी भी प्रकार से न छोड़ रहा हो तो #भृंगराज के पत्तों के रस 1 चम्मच सुबह शाम पिला देने से मिट्टी खाना तुरंत छोड़ देता है |